Metro Plus News
फरीदाबादराजनीतिहरियाणा

स्मार्ट सिटीज की टॉप-20 में लाने के लिए लोगों का सहयोग जरूरी: सीमा त्रिखा

फरीदाबाद नगर निगम ने राजहंस में की कार्यशाला आयोजित
नवीन गुप्ता
फरीदाबाद, 7 नवंबर:
फरीदाबाद को देश के प्रथम 98 स्मार्ट सिटीज में शामिल करवाने की कामयाबी के बाद अब टॉप-20 भावी स्मार्ट शहरों में शुमार करवाने की कवायद के अंर्तगत आज यहां स्थानीय सूरजकुंड स्थित सिल्वर जुबली हॉल में फरीदाबाद नगर निगम व अखिल भारतीय स्थानीय स्वशासन एवं यूएस ग्रीन बिल्डिग कांऊसिल की ओर से स्मार्ट सिटीज एंड ग्रीन बिल्डिंगस् पर परामर्श कार्यशाला आयेजित की गई। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि हरियाणा सरकार की मुख्य संसदीय सचिव एवं बडख़ल की विधायक सीमा त्रिखा ने दीप शिखा प्रज्जवलित करके कार्यशाल का शुभारंभ किया। उनके साथ उपायुक्त एवं निगमायुक्त डॉ०अमित कुमार अग्रवाल, एनआईटी के विधायक नगेंद्र भड़ाना, निगम के सयुक्त आयुक्त नरहरि सिंह बांगड़, निगम के अधीक्षण अभियंता डीआर भास्कर तथा उक्त संस्थान के वरिष्ठ कार्यकारी निदेशक रवि राजन गुरू प्रमुख रूप से उपस्थित थे। कार्यक्रम का मंच संचालन राष्ट्रीय कवि दिनेश रघुवंशी ने किया।
मुख्य अतिथि सीमा त्रिखा ने कहा कि फरीदाबाद को देश के प्रथम 98 स्मार्ट शहरों की श्रेणी में शामिल करवाने का प्रमुख रूप से श्रेय फरीदाबाद के सांसद एवं केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर को जाता है। फरीदाबाद को सपनों के शहर के रूप में स्मार्ट सिटी बनाने के अभियान के अंतर्गत फरीदाबाद नगर निगम क्षेत्र में रहने वाले सभी लोगों को आगे आकर सहयोग करने की जरूरत है। हमारा विकास सभी वार्डों व विधानसभा हलकों में एक ही तर्ज पर दिखाई देना चाहिए। अतिक्रमण तथा अवैध भूजल दोहन जैसी अनैतिक गतिविधियों पर रोक लगाने की आवश्यकता है। यदि शहर का हर व्यक्ति स्वयं को हर क्षेत्र में स्मार्ट बनाने में का स्वरूप देखने लगे तो निश्चित रूप से फरीदाबाद को टॉप-20 में शामिल करवाना ओर फिर स्मार्ट सिटी बनाने का रास्ता आसान हो जाएगा।
विधायक नगेंद्र भड़ाना ने कहा कि फरीदाबाद एनआईटी हलके में रैनीवेल योजना का पानी सब क्षेत्रों से बाद में पहुंचने के कारण पूरी मात्रा में नहीं मिल पाता है। अत: यह सप्लाई एक समान रूप से करने का प्रयास किया जाना चाहिए। उन्होने सुझाव दिया कि शहर में कूड़ा-कर्कट डोर-टू-डोर उठाने की मुहिम शुरू की जानी चाहिए। जोकि स्वच्छता कायम रखने में कारगर सिद्ध होगी।
उपायुक्त डॉ० अग्रवाल ने कहा कि आज शहर के लोगों में स्मार्ट सिटी को लेकर चर्चा होना जन-जागरूकता का प्रतीक है। शहर के लोगों को अपने सुझाव देकर बताने होंगे कि वे फरीदाबाद को कैसे स्मार्ट सिटी के रूप में देखना चाहते है। उन्होंने कहा कि इस समय फरीदाबाद टॉप-20 की दौड़ में हर पैरामीटर के अंतर्गत 5वें नंबर पर चल रहा है।
इस कार्यशाला को निगम के एसई डीआर भास्कर, निगम के पूर्व महापौर अशोक अरोड़ा, प्रियंका कोचर, एफआईए के प्रधान नवदीप चावला, रश्मि तिवारी, सज्जन जैन, डॉ एसके गोयल, आईजे कालिया, डीएलएफ इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के प्रधान जेपी मल्होत्रा, लघु उद्योग भारती के जिला अध्यक्ष अरूण बजाज, उद्योगपति सतीश गुंसाई, एच कुमार, एनके कटारा, हट्टी राम ठेकेदार, अशोक त्रिपाठी, सौरभ भारद्वाज, रवि भूषण खत्री, एसडी अरोडा, अमित मिश्रा, एसके रनोलिया, ओमप्रकाश रक्षवाल, उद्योगपति नवनीत गुंबर, पयर्टन अधिकारी राजेश जून, सहित कई अन्य वक्ताओं ने भी संबोधित करते हुए अपने विचार एवं सुझाव प्रकट किए।

Related posts

शिक्षण संस्थानों को भाजपा सरकार अपनी प्रयोगशाला बनाने की कोशिश कर रही है: कुलदीप सिंह

Metro Plus

अधिवक्ताओं ने एकजुट होकर दिया कृष्णपाल गुर्जर को अपना समर्थन

Metro Plus

ब्रांडेड स्कूलों ने टेके घूटने, स्कूल फीस को किया रोल बैक, पढिय़े कैसे और क्यों?

Metro Plus